पारद शिवलिंग की रोगमुक्ति साधना

Parad Shivling Ki Rogmukti Sadhna

घर में पारद शिवलिंग सौभाग्य, शान्ति, स्वास्थ्य एवं सुरक्षा के लिए अत्यधिक सौभाग्यशाली है। शिवलिंग के मात्र दर्शन ही सौभाग्यशाली होता है। इसके लिए किसी प्राणप्रतिष्ठा की आवश्कता नहीं हैं। पर इसके ज्यादा लाभ उठाने के लिए पूजन विधिवत की जानी चाहिए।

|| ह्रीं तेजसे श्रीं कामसे क्रीं पूर्णत्व सिद्धिं पारदाय क्रीं श्रीं ह्रीं ॐ ||

  • कम से कम १०८ बार पारद शिवलिंग पर आचमनी से जल चढ़ाएं।
  • हर बार चढाते समय मंत्र का उच्चारण करें।
  • पूरा होने पर उस जल को अपने मुह आँख तथा शारीर पर छिडकें।
  • शेष जल को पी जाएँ।
  • ऐसा कम से कम १२० दिन तक करें।
  • जटिलतम रोगों में भी लाभप्रद है।
  • पारद शिवलिंग यदि श्रेष्ट तांत्रिक गुरु द्वारा निर्मित हो तो अत्यंत श्रेष्ट होता है। उसमे भी यदि स्त्री गुरु द्वारा प्रदत्त हो तो सर्वश्रेष्ट होता है।
  • जो गुरु युगल रूप में अपनी शक्ति के साथ युक्त होते हैं उनके द्वारा प्रदत्त पारद शिवलिंग ज्यादा प्रभावशाली होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *