भाग्यांक 4 वाले जातक होते है परिवर्तनशील विचारों के धनी

Bhagyank 4 Wale Jatak Hote Hai Parivartanshil Vichaaron Ke Dhani

भाग्यांक 4 (Bhagyank 4)

राहु ग्रह अंक 4 का प्रतिनिधित्व करता है। अंकशास्त्र के अनुसार भाग्यांक 4 के जातक राहु ग्रह से प्रभावित होते हैं। राहू से प्रभावित होने के कारण इनके जीवन में कोई भी अकस्मात घटना घट सकती है।

भाग्यांक 4 की विशेषताएं (Behaviors and Qualities of Bhagyank 4)

भाग्यांक चार वाले व्यक्ति नवीन तथा परिवर्तनशील विचार के होते है। ऐसा व्यक्ति किसी धर्म का प्रचारक हो तो जल्द ही वह अपने विचारों से समाज को एक नई दिशा दिखाने में कामयाब होगा।

आप किसी भी क्षेत्र में अपने अथक परिश्रम से सफलता प्राप्त ही कर लेंगे। यदि आप राजनीति में जायेंगे तो आप एक पार्टी में स्थिर न रहकर, दूसरी पार्टी में चले जायेंगे। आप तर्क करने में काफी कुशल होंगे इसलिए वाद-विवाद करके आप दूसरों पर अपना अधिकार जमा लेंगे।

आपको क्रोध जल्दी आता है, परन्तु समाप्त भी जल्दी ही हो जाता है। इसी कारण कुछ लोग आपके शत्रु बन जाते है। आपकी जरूरते तो अवश्य पूर्ण होगी परन्तु ख्वाहिसे पूरी करने के लिए काफी इन्तजार करना पड़ेगा।

भाग्यांक चार वाले कार्यों को धीमी गति के साथ किंतु दृढ़ निश्चय के साथ करते हैं। परंतु कार्य शैली एवं लगन गलत दिशा की ओर भी मुड़ सकती है जिस कारण इन्हें अनेक समस्याओं का सामना भी करना पड़ जाता है। अत: भाग्यांक 4 वालों को अपने आपको सही दिशा में प्रयत्नरत रहते हुए कार्य करना चाहिए।

भाग्यांक 4 के लिए सावधानियां (Negative Characteristics of Bhagyank 4)

आप किसी की भी निन्दा न करें व प्रत्येक के गुणों की प्रशंसा करें।

आप अपने बुढ़ापे के लिए धन का संचय अवश्य करें अन्यथा कष्टकारी रहेगा।

यात्रा के दौरान आप किसी पर विश्वास न करें अनजान लोगों से बच कर रहें क्योंकि यह आपको नुकसान पहुँचा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *