दृढ़ संकल्पित होते है भाग्यांक 1 के जातक

Dhridh Sankalpit Hote hai bhagyaank 1 ke jatak

भाग्यांक 1 (Bhagyank 1)

भाग्यांक 1 सूर्य से प्रभावित माना जाता है। सूर्य के प्रभाव के कारण भाग्यांक 1 के जातक आत्म निर्भर, दृढ़ निश्चय व स्वतंत्र होते हैं। यह अंक रचनाशील व कला का प्रतीक माना जाता है।

भाग्यांक 1 की विशेषताएं (Behaviors and Qualities of Bhagyank 1)
अंकशास्त्र के अनुसार माना जाता है कि भाग्यांक 1 के लोग बहुत ही धैर्यवान व दृढ़ संकल्पित होते हैं। यह अपनी सभी जिम्मेदारियों को भली-भांति निभाते हैं।

भाग्यांक ‘1’ वालों में धन का संग्रह करने की आदत होती है तथा यह लोग धन बचत करने में सफल होते हैं। भाग्यांक एक वालों को धनार्जन करने तथा धन का संग्रह करने के अनेक अवसर प्राप्त होते हैं।

अंक 1 के जातक निष्पक्ष, उदार तथा आभार का भाव रखते हुए, अन्य लोगों की भावनाओं का सम्मान करते हैं। धन संचय की कला से पारंगत होते हैं। नेतृत्व इनके स्वभाव में ही होता है, इसलिए ये आज्ञाकारी होते हैं। कार्यों को उचित प्रकार व नियमों से पूरा करते हैं।

भाग्यांक ‘1’ वाले व्यक्ति अपनी बुद्धिमत्ता, योग्यता एवं गुण प्रभाव के कारण कार्यों में प्रगति तथा समाज में सम्मान प्राप्त करते हैं। भाग्यांक एक वालों में प्रेम का भाव निहित होता है। इनमें प्रेम की अक्षुणता को बनाए रखने का सामर्थ भी होता है। इसी कारण इनके प्रेम संबंध तथा मैत्री संबंध दीर्घकालीन व स्थाई होते हैं।

भाग्यांक 1 के लिए सावधानियां (Negative Characteristics of Bhagyank 1)
भाग्यांक 1 के जातकों को कुछ बातों पर अधिक थोड़ा ध्यान देना चाहिए। यह नेतृत्व में तो नीपुण होते हैं, किन्तु इन्हें निष्पक्षता से बचना चाहिए। शांत व अनुशासित रहना चाहिए। किसी पर भी अपना मत थोपने से बचें। अंक 1 के जातकों को गुस्से से काम नहीं लेना चाहिए। ध्यान रखना चाहिए कि कोई भी कार्य प्रेम-पूर्वक करें। आदेशात्मक प्रवृत्ति से किया गया कार्य बिगड़ सकता है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *